what is male and condom and female condom

कंडोम का नाम सुनते ही हम सभी के मन में सिर्फ पुरुषों के कंडोम का ही विचार आता है। आमतौर लोग सिर्फ पुरुषों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले कंडोम के बारे में ही बात करते हैं, जिसकी वजह से फीमेल कंडोम पीछे रह जाती है। यहां तक कि कई लोगों को यह तक पता नहीं होगा कि फीमेल कंडोम भी होती है। अगर आप फीमेल कंडोम के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपको भी इसके बारे में जानना चाहिए। जिस तरह पुरुषों कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, वैसे ही महिलाएं भी फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करती हैं।

क्या है फीमेल कंडोम?

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए अब जरूरी नहीं कि सिर्फ पुरुष ही कंडोम का इस्तेमाल करें। या महिलाएं दवाओं का सेवन करें। बल्कि, अब अनचाहे गर्भ से बचने से के लिए महिलाएं फीमेल कंडोम की मदद ले सकती हैं। सेक्स के दौरान उनका साथी कंडोम का इस्तेमाल करते हैं या नहीं इसके बारे में उन्हें विचार करने की भी जरूर नही होती। फीमेल कंडोम से महिलाएं न सिर्फ अनचाहे गर्भ से सुरक्षित रहती हैं बल्कि, तमाम तरह की बीमारियों और सेक्स जनित रोगों से भी खुद को सुरक्षित रख सकती हैं।

जानिए महिला और पुरुष कंडोम के बीच का अंतर

  1. पुरुषों और महिलाओं के लिए कंडोम दिखने में अलग-अलग होते हैं। लेकिन, दोनों ही अनचाहे गर्भ और बीमारियों से सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  2. मेल कंडोम लेटेक्स, पॉलीयुरेथेन, पॉलीआईसोप्रेन या भेड़ की खाल से बनाया जाता है। जबकि, फीमेल कंडोम पॉलीयुरेथेन या नाइट्राइल से बनाया जाता है, जो एक चिकनाई युक्त पाउच जैसा होता है। इसमें दो सिरे होते हैं: पहला सिरा खुला होता है और दूसरा बंद रहता है। साथ ही, इसके दोनों सिरों पर दो छल्ले भी होते हैं, जिससे कंडोम को योनि के अंदर सही जगह फिट किया जाता है।
  3. मेल कंडोम का इस्तेमाल लिंग के उत्तेजित होने पर किया जा सकता है। जबकि, फीमेल कंडोल का इस्तेमाल महिलाएं सेक्स करने के आठ घंटे पहले भी कर सकती हैं। पुरुषों का कंडोम लिंग के अधिकांश हिस्से को ढककर रखता है। जबकि, फीमेल कंडोम महिला के जननांगो के अंदरूनी और बाहरी दोनों हिस्सों को ढककर रखता है।
  4. इसके अलावा, मेल कंडोम लेटेक्स का बना होता है, जो एलर्जी का कारण बन सकता है। जबकि, फीमेल कंडोम हाइपोएलर्जिक होते हैं, जो हर तरह की एलर्जी से स्किन की रक्षा करता है।

कैसे किया जाता है फीमेल कंडोम का इस्तेमाल?

  • फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करने के लिए इसे योनि के अंदर फिट किया जाता है। इसके अलावा, गुदा सेक्स या मैथुन के दौरान भी फीमेल कंडोम का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिससे दोनों साथी एसटीडी के जोखिम से अपना बचाव कर सकते हैं।

फीमेल कंडोम इस्तेमाल करने के दौरान सावधानी

सेक्स करते समय मेल या महिला कंडोम में से सिर्फ एक कंडोम का ही इस्तेमाल करें। अगर पुरुष साथी कंडोम का इस्तेमाल कर रहें हो, तो महिला कंडोम का इस्तेमाल न करें। क्योंकि, दोनों अगर एक साथ में कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, तो वे एक साथ चिपक सकते हैं और जगह से बाहर खींच सकते हैं या योनि के अंदर ही फट भी सकते हैं।

सेक्स के दौरान फीमेल कंडोम फट जाए तो क्या करें

यह संभावना नहीं है कि एक फीमेल कंडोम टूट जाए खासकर अगर सही तरीके से उपयोग किया जाता है। हालांकि अगर फीमेल कंडोम टूट जाता है या योनि से हटाए जाने पर रिसाव होता है, या अगर बाहरी रिंग योनि के अंदर ऊपर चली जाती है – या अगर कुछ और गलत हो जाता है जैसे लिंग और कंडोम के बीच सेक्स के दौरान लिंग का फिसलना।

अगर ऐसा कुछ भी होता हैं तो कुछ सरल चीजें जो आप कर सकते हैं:

  • सेक्स के दौरान पेनिस तुरंत हटा लें
  • जितना हो सके उतना सीमन निकालें
  • अपनी योनि या एनल एरिया के अंदर धोने से बचें क्योंकि यह आगे संक्रमण फैला सकता है या जलन पैदा कर सकता है
  • अगर आप योनि सेक्स कर रहे हैं, तो बाथरूम में जाएँ और अपने यूरेथरा के पास होने वाले किसी भी सीमन को बहा दें।
  • अगर आप गर्भावस्था को रोकने के लिए किसी अन्य गर्भनिरोधक का उपयोग नहीं कर रही हैं, तो आप यौन संबंध बनाने के 72 घंटों के अंदर इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव लेने के बारे में सोच सकते हैं।

अधिकांश सेक्सुअल हेल्थ प्रोफेशनल आपको असुरक्षित यौन संबंध के 10 दिन बाद या यदि कंडोम टूटता है (या पहले यदि आप किसी भी लक्षण के बारे में चिंतित हैं) और फिर तीन महीने बाद फिर से यौन स्वास्थ्य परीक्षण कराने की सलाह देंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि अलग-अलग एसटीआई संक्रमण के बाद अलग-अलग समय में पता लगाने योग्य हो जाएंगे।

You Might Also Like

Leave Comments