tips to improve sex drive

घूमने फिरने ना केवल होता है तनाव कम, सेक्स लाइफ होती है बूस्ट

लो-लिबिडो, लो सेक्स ड्राइव ऐसी सेक्सुअल प्रॉब्लम्स में से हैं जो महिलाओं और पुरुषों दोनों को अक्सर महसूस होती हैं।  रिश्तों में तनाव, थकान, नींद की कमी और कुछ मेडिकल प्रॉब्लम्स की वजह से सेक्स ड्राइव कम हो जाती है। ऐसे में अगर आप अपनी सेक्स लाइफ को इम्प्रूव करने की कोशिश करना चाहते हैं। तो, बाहर धूप में टहलें या ट्रैवल करें।

 क्या आपकी सेक्स ड्राइव (Low Sex Drive) कम हो गयी है और इसकी वजह से आपकी रिलेशनशिप पर असर पड़ रहा है। लो-लिबिडो, लो सेक्स ड्राइव ऐसी सेक्सुअल प्रॉब्लम्स में से हैं जो महिलाओं और पुरुषों दोनों को अक्सर महसूस होती हैं।  रिश्तों में तनाव, थकान, नींद की कमी और कुछ मेडिकल प्रॉब्लम्स की वजह से सेक्स ड्राइव कम हो जाती है। ऐसे में अगर आप अपनी सेक्स लाइफ को इम्प्रूव करने की कोशिश करना चाहते हैं। तो, कीजिए अपने  बैग पैक और निकल पड़िए कहीं सैर-सपाटे पर। जी हां, कुछ स्टडीज़ में कहा गया है कि घूमने-फिरने से सेक्स लाइफ बेहतर बनती है। 

घूमेंगे-फिरेंग तो सेक्स-लाइफ हो जाएगी नयी-सी

लिबिडो और सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए कुछ आसान लेकिन अलग तरीके अपनाए जा सकते हैं। ऐसा ही एक तरीका है सैर-सपाटा और घूमना-फिरना। जी हां, कुछ स्टडीज़ में इस बात का दावा किया गया है कि,  घूमने-फिरने या ट्रैवल करने से लोगों की सेक्स लाइफ इम्प्रूव होती है। एक्सपर्ट्स के अनुसा ट्रैवल करने से वेट लॉस, आत्म-विश्वास बढ़ाने और जवां दिखने में मदद करता है। साथ ही इससे, सेक्स ड्राइव बेहतर होती है।  सैर-सपाटे से तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन्स यानि कॉर्टिसोल (cortisol) का स्तर कम होता है। तनाव लो-लिबिडो का एक बड़ा कारण है। इसके साथ ही क्रोनिक स्ट्रेस के चलते डिप्रेशन और एंग्जायटी बढ़ सकती है। इससे, सेक्स लाइफ प्रभावित होती है

धूप में टहलने से दूर होती है थकान, बढ़ती है सेक्स ड्राइव:

लो सेक्सुअल ड्राइव से परेशान लोगों को धूप में टहलने से फायदा होता है। विभिन्न स्टडीज़ में ऐसा कहा गया है कि, विटामिन डी की कमी से सेक्स ड्राइव कम होती है। जबकि,  सही मात्रा में विटामिन डी मिलने से सेक्स लाइफ बेहतर होती है। विटामिन डी की सही मात्रा से फीमेल सेक्स हार्मोन्स (oestrogen) का स्तर बढ़ता है। जिससे,  महिलाओं में लो-लिबिडो की समस्या से आराम मिलता है। इसी तरह विटामिन डी की अच्छी मात्रा के कारण पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन (testosterone) हार्मोन्स  का भी उत्पादन  बढ़ता है।

You Might Also Like

Leave Comments